अगर आप पोस्ट ग्रेजुएशन कर चुके हैं और इसके बाद भी आगे रिसर्च बेस स्टडी करना चाहते हैं तो आप M.Phill कर सकते हैं और ये कोर्स क्या है और करने की कौन सी Conditions और Criteria क्या है ये सब आपको आज इस लेख में पता चल जाएगा इसीलिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़े ताकि M.Phill कोर्स से जुड़ी सारी सवालो का आप समाधान कर सकें नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है।

M Phill क्या है?

M.Phill के फुलफॉर्म है Master of Philosophy और ये एक Postgraduate Academic Research Program है जिसकी ड्यूरेशन दो साल होती है किसी भी स्ट्रीम से पोस्ट ग्रैजुएट होने के बाद आप एमफिल कर सकते हैं यानी आपने चाहे Science, Arts, Low, Humanities, यानि Hindi, English, History, Economics etc. जैसे किसी भी सब्जेक्ट में मास्टर्स डिग्री ले रखी हो आप एमफिल करने के लिए एलिजिबल होंगे इस कोर्स में थ्योरी के साथ प्रैक्टिकल सब्जेक्ट होते हैं और रिसर्च वर्क भी M.Phill में शामिल होता है M.Phill को सेकेंड मास्टर्स डिग्री भी कहा जाता है जो Masters Degree of PHD के बीच में कंप्लीट की जाती है।

यह भी पढ़े: loco pilot kaise bane – loco pilot salary

M.Phill करने के लिए क्राइटेरिया क्या होता है आइये जानते हैं?

अगर आप M.Phill करना चाहते हैं तो इसके लिए आपका Masters Degree कंप्लीट करना जरूरी है यहां पर इम्पॉर्टेंट पॉइंट ये है कि आप उसी सब्जेक्ट में M.Phill कर सकते हैं जिस सब्जेक्ट में आपने मास्टर्स डिग्री कंप्लीट की हो इसके अलावा कई Collages और Institutions की अलग कंडीशंस भी होती है जैसे M.Phill Course में एडमिशन के लिए मास्टर्स डिग्री में कम से कम 55% मार्क्स होना जरूरी है जनरली एमफिल कोर्स में एडमिशन पोस्ट ग्रैजुएट डिग्री की पर्सेंटेज के बेसिस पर मेरिट के हिसाब से लिया जाता है लेकिन कुछ नहीं Universities में Common Entrance Test क्लियर करने के बाद ही इस कोर्स में Admission मिल पाता है।

M.Phill Course करने के लिए कुछ पॉप्युलर कॉलेजेस के नाम?

  • MDU – MaharshiDayanand University, Rohtak
  • JNU – Jawaharlal Nehru University, Delhi
  • Tata Institute of Social Sciences, Mumbai
  • Christ University, Bangalore
  • JMI – JamiaMillialSlamia, Delhi
  • Lovely Pofessional University, Punjab
  • Amity University, Uttar Pradesh

M.Phill करने के बेनिफिट्स क्या है?

M.Phill कोर्स में आपको अपने सब्जेक्ट की डीप नॉलेज मिलती है हम गहराई से जो रिसर्च बेस होती है इस कोर्स को करने के बाद आप अपने सब्जेक्ट के एक्सपोर्ट बन जाते हैं और ऐसे में आपके लिए रिसर्च बेस्ड जॉब के ऑप्शन चुनना या टीचिंग जॉब में जाना आसान और फायदेमंद हो जाता है इस कोर्स के बाद आप PHD भी करते हैं M.Phill करने के बाद आप कितना कमा सकते हैं ये इम्पॉर्टेंट सवाल तो ये आपके सब्जेक्ट और M.Phill करने के परपर् पर डिपेंड करेगा यानी अगर आप Economist के तौर पर करियर बनाते हैं तो आप एवरेज दो लाख पर एनम सैलरी से शुरुआत कर सकते हैं और अगर आप अपने सब्जेक्ट के Academic Researcher बनना चाहते हैं तो भी आप एवरेज दो लाख रुपए सालाना कमा सकते हैं इस तरीके से असिस्टेंट प्रोफेसर भी बन सकते हैं और सिविल सर्वेंट भी बन सकते हैं कि अपने सब्जेक्ट की डीप नॉलेज लेने के बाद आप मास्टर्स डिग्री की तुलना में बेहतर करियर ऑप्शन पा सकते हैं।

अक्सर ये कन्फ्यूजन भी रहता है कि M.Phill और PHD में क्या अंतर है इसे समझना बहुत जरूरी है?

  1. M.Phill और PHD दोनों ही Research Oriented Courses होते हैं।
  2. इन दोनों ही कोर्स को करने के लिए Masters Degree होना जरूरी होता है।
  3. M.Phill की Duration 2 साल होती है जबकि PHD की Duration 3 से 6 साल तक होती है।
  4. M.Phill रिसर्च का छोटा रुप है जबकि PHD का दायरा बहुत बड़ा होता है।
  5. M.Phill केवल Post Graduate Degree है जबकि PHD हाईएस्ट रैकिंग डिग्री है जो किसी स्कॉलर को उसके Research Work के लिए University द्वारा दी जाती है।
  6. M.Phill कोर्स से आपको Master of Philosophy की डिग्री मिलती है जबकि PHD करके आप Doctor Philosophy कहलायेगे।

इसीलिए कई बार ना लोगों के नाम के आगे डॉक्टर लिखा होता है हमें लगता है कि कोई जनरल फिजिशियन या सर्जन टाइप के डॉक्टर होंगे पर बाद में पता चलता है कि हमने पीएचडी की है अगर आपको लगत है नाम के आगे डॉक्टर लगवा तो आप PHD कर सकते हैं।

अगला डिफ़रेंस? है की दोनों ही Courses में आपको Research Work करना होगा और थीसिस तैयार करनी होगी लेकिन M.Phill के थिसिस PHD थीसिस से कहीं ज्यादा छोटी और आसान होगी चूंकि M.Phill में Research Work को असेम्बल करके थीसिस बनाई जा सकती है लेकिन PHD में तैयार की गई थीसिस ओरिजनल रिसर्च पर बेस्ड होनी चाहिए।

दोस्तों आप जान चुके हैं कि M.Phill कोर्स क्या है और इसे करने के लिए कौन सा प्रोसीजर फॉलो करने की जरूरत होती है इसके साथ साथ आप M.Phill और PHD के बीच के डिफरेंस को भी समझ ही गए होंगे आप कॉमेंट बॉक्स में जरूर लिखकर बताइए कि ये इनफार्मेशन आपके लिए कितनी मददगार साबित हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here